Saturday, 1 July 2017

कविता " एक शहीद की पत्नी की दारून व्यथा "

डाल ओहार ताबूत तिरंगे की
अर्थी आई पिया की मैं सन्न रह गई
जन सैलाव का उमड़ा हुजूम दर
देख शव संग पिया की मैं सन्न रह गई ,

ख़त का मजमून पूरा पढ़ा भी न था
शहादत की खबर यूँ बता दी गई
थे जिनके लिए बेसबर दो नयन
झट चंन्दन की चिता सजा दी गईं ,

राह तकती महावर लगी एड़ियां
सुर्ख हीना हथेली रची रह गई
गजरे की लड़ियों गूंथीं वेणियां
सेज फूलों सजी की सजी रह गई ,

तोड़ बिखरा गईं कांच की चूड़ियां
झट माथे की बिंदिया मिटा दी गई
मेरे सिंगार के सारे असवाब भी
धू-धू करती चिता में जला दी गईं ,

श्वेत वस्त्रों का अभरण पेन्हाया गया
स्वर्णाभूषण वदन से हटा दी गईं
चाँद से मुखड़े पर थी भरी माँग जो
टार घूँघट फट लाली उठा दी गईं ,

टूटा कैसा कहर मुझपे हा जिन्दगी
जिन्दगी भर को बिधवा बना दी गई
ओढ़ जाऊँ कहाँ लिबास वैधव्य का
शोक संग जब सगाई मना दी गई ।

मिली कैसी सजा मेरे जांबाज को
जवां जिन्दगी वतन पर लूटा दी गई
देशभक्त सीमा प्रहरी की ये दुर्दशा
मेरी हसीं देखो दुनिया मिटा दी गई ,

एक कतरा गिरा देश की आँख से
बूँदें श्रद्धांजलि की चढ़ा दी गईं
लूटा संसार मेरा सदा के लिए
कृति सैनिक पिया की भूला दी गई ।

ओहार--परदा , वेणियां--चोटी ,
असवाब--सामग्री ,

शैल सिंह