Tuesday, 16 August 2016

सत्य बोलना कड़वा होता है
झूठ बोलना पाप होता है
तो फिर बोलें  तो क्या बोलें
पाप वाला सच बोलें
या कड़वा वाला झूठ बोलें
नहीं ये मुझसे नहीं हो सकता
गर्दन पे आरी चले तो भी
हवा के साथ नहीं हो सकती ,

                         शैल सिंह
                 






आख़िर कब तक हम शहीदों के लिए मातम मनाते रहेंगे ,कब तक देश के लिए अपने सपूतों का बलिदान देते रहेंगे इसका निदान कब होगा ,इसका इलाज क्या है ,

                                                                                शैल सिंह